भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अरे उअत जोन्हैया बुड़त शुकवा / बघेली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बघेली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

अरे उअत जोन्हैया बुड़त शुकवा तुम्हें बउली बोलायउं
तुम्हें बउली बोलायउं न आयो मितवा- तुम्हें बउली बोलायउं