भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अरे बाँस के झुरमुट! / ज्योत्स्ना शर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अरे बाँस के झुरमुट!

चिड़ियों की बस्ती है तुझमें
रचता मेरा घर
अरे बाँस के झुरमुट आया
कितने गुन लेकर।

झूम-झूम के तुझे खिलाए
पवन झकोरे खूब
संगी-साथी आम, नीम सब
और नन्ही सी दूब
सबके संग हिल-मिलके गाता
गीत बड़े सुखकर!

बचपन की नर्मी है तुझमें
होता कभी कठोर
जन्म झुलाए, मरण ले चले
तू मरघट की ओर
औरों के हित झुकता -मुड़ता
रहा कभी तनकर !

डलिया,कुर्सी, मेज़, चटाई
रूप कई धरता
कान्हा के अधरों पर सजता
मधुर-मधुर बजता
बिन तेरे है कच्ची कुटिया
और पोला छप्पर!

अरे बाँस के झुरमुट आया
कितने गुन लेकर!