भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अर्ज़ किया है मेरी तुम सुनो बोल दूँ / बेगम रज़िया हलीम जंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अर्ज़ किया है मेरी तुम सुनो बोल दूँ
तुम बुला लेना मुझ को मैं जब भी कहूँ

भेजते हो ख़ुशी से मुझे किस लिए
क्या नहीं देखते मेरा हाल-ए-ज़बूँ

क्यूँ सुलूक आप का ये बदलता नहीं
जो है औरों से वैसा ही मुझ से है क्यूँ

घर तुम्हारा बसाऊँ हमेशा को मैं
मैं तो ये चाहती हूँ तुम्हारी रहूँ