भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अर्पण कर दो राम को / हनुमानप्रसाद पोद्दार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

(राग पीलू-ताल कहरवा)
 
अर्पण कर दो राम को बचे हु‌ए सब श्वास।
स्मरण करो प्रभुका सदा, मनमें भर उल्लास॥
मौत मरेगी सदाको, फिर न आयगी पास।
राम-धाममें पहँच तुम बन जा‌ओगे दास॥