भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अलिकति म बाँचुँला / सुमन पोखरेल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
अलिकति म बाँचुला अलिकति तिमी बाँचिदेऊ
आऊ हामी जिन्दगीलाई एकअर्काकोमा गाँसिदिऊँ

तिमी पढ मेरा इच्छा, म तिम्रा भाका बुझिदिन्छु
मेरा धड्कन सुन तिमी, म तिम्रा आँखा पुछिदिन्छु
तिम्रा मेरा भावनालाई एकै ठाउँमा टाँसिदिऊँ
हिजो अस्ति जे भो' भो' अब त हामी हाँसिदिऊँ

तिमी बस मनमा मेरो, म तिम्रो मनमा आइदिन्छु
म भएर सोच तिमी, अनि म तिमी भइदिन्छु
बुझेर एक अर्कालाई जीवनभर हाँसिदिऊँ
आफसका सुख दुःख एकै ठाउँमा बाँधिदिऊँ