भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अवधपुरी मे चैन परे न / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

अवधपुरी में चैन परे न,
बनखों गये रघुराई मोरे लाल
रामलखन और जनकदुलारी,
अब न परत रहाई मोरे लाल
सब रनवास लगत है सूनो,
रोवे कौशला माई मोरे लाल
नगर अयोध्या के सब नर-नारी,
सबरे में उदासी छाई मोरे लाल
जब रथ भयो नगर के बाहर,
दशरथ प्राण गये हैं मोरे लाल
चौदह साल रहे ते वन में,
सहो कठिन दुखदाई मोरे लाल
वन-वन भटकी परी मुसीबत,
शोक सिया खों भारी मोरे लाल