भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अश्रु आचमन / रमेश रंजक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अगर शपथ की परिधि न होती
मेरी पीर
कथा हो जाती

पिंजरे का पंछी भर रहना
तो मुझको स्वीकार नहीं था
परवशता ने झुका दिया सिर
क्योंकि अन्य उपचार नहीं था

अगर तोड़ देता ये बन्धन
जग के लिए
प्रथा हो जाती

दर्द बिना जीना क्या जीना
दर्द बिना जीवन मरुथल है
दर्द अकेलेपन का स्वर है
दर्द स्नेह का गंगाजल है

प्यास, अश्रु आचमन न करती
तो हर सास
वृथा हो जाती