भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अस्तित्व बोध / प्रांजलि अवस्थी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूखी जमीन पर बिछे
गीले फूलों के निशान की तरह

रूँधे गले पर ठहरे शब्दों की
विडम्बना कि तरह

प्राचीन इमारतों की इतराती
बुलन्दियों की तरह

प्राचीरों की दीवारों पर उकेरे गये
 प्रेमी युगल के नाम की तरह

ऊँचाई से नीचे कूदी
पुनरावृत्ति करती गूँजती आवाजों की तरह

अस्तित्व का बोध भी
ठहरी हुई, सहमी हुई, लिखी हुई, कही गयी, गढ़ी गयीं
अपनी सभी पीड़ाओं, सांत्वनाओं,
और आकांक्षाओं को भोग कर बार-बार जन्म लेता है ...