भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अहाँ केर बाबू दुलहा बहत लेलनि गनाय यो रघुवंशी दुलहा / मैथिली लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैथिली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

अहाँ केर बाबू दुलहा बहत लेलनि गनाय यो रघुवंशी दुलहा
डाला भरि टाका लेलनि गनाय यो रघुवंशी दुलहा
अहाँ केर बाबु दुलहा बीत-बीत बेचबोलनि यो रघुवंशी दुलहा
हमरा बाबु के छनि एतेक हियाब यो रघुवंशी दुलहा
अहाँ के लेलनि खरीदि यो रघुवंशी दुलहा
मिथिलामे गेलौं बिकाय यो रघुवंशी दुलहा