भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अहो नर नीका है हरिनाम / दादू दयाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अहो नर नीका है हरिनाम।
दूजा नहीं नाँउ बिन नीका, कहिले केवल राम॥टेक॥

निरमल सदा एक अबिनासी, अजर अकल रस ऐसा।
दृढ़ गहि राखि मूल मन माहीं, निरख देखि निज कैसा॥१॥

यह रस मीठा महा अमीरस, अमर अनूपम पीवै।
राता रहै प्रेमसूँ माता, ऐसैं जुगि जुगि जीवै॥२॥

दूजा नहीं और को ऐसा, गुर अंजन करि बूझै।
दादू मोटे भाग हमारे, दास बमेकी बूझै॥३॥