भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आँकड़ों के ज़माने आए हैं / विनय कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आँकड़ों के ज़माने आए हैं।
आप ग़ज़लें सुनाने आए हैं ?

आँकड़े में बदल रहे हैं आप
आपको यह बताने आए हैं।

आपसे रोशनी की है उम्मीद
आपका दिल जलाने आए हैं।

हम मुज़ाहिद भी हैं, सिपाही भी
हम घरौंदे बचाने आए हैं।

जंग बाक़ी है, सच निहत्था है
तेग़ उसको थमाने आए हैं।

खून लोगों का हो गया पानी
आप फिर भी बहाने आए हैं ?

कर्ज़े तहज़ीब एक दुनिया है
चार पैसे चुकाने आए हैं।