भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

आँखें बंद पड़ीं गीजर की फिर भी दहता है पानी / 'सज्जन' धर्मेन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आँखें बंद पड़ीं गीजर की फिर भी दहता है पानी।
उनके तन की तपिश न पूछो कैसे सहता है पानी।

नाज़ुक होठों को छूने तक भूखा रहता बेचारा,
जब तक नहीं नहा लेतीं वो प्यासा रहता है पानी।

उनके बालों से बिछुए तक जाने में चुप रहता फिर,
कल की आशा में सारा दिन कल कल कहता है पानी।

एक रेशमी छुवन के पीछे हुआ है ऐसा दीवाना,
सूरज रोज बुलाए फिर भी नीचे बहता है पानी।

बाधाएँ जितनी ज्यादा हों उतना ऊपर चढ़ जाता,
हार न माने इश्क अगर सच्चा हो कहता है पानी।