भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आँख दिखलाने लगा है वो फ़ुसूँ-साज़ / यगाना चंगेज़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आँख दिखलाने लगा है वो फ़ुसूँ-साज़ मुझे
कहीं अब ख़ाक न छनवाए ये अंदाज़ मुझे

कैसे हैराँ थे तुम आईने में जब आँख लड़ी
आज तक याद है इस इश्क़ का आग़ाज़ मुझे

सामने आ नहीं सकते कि हिजाब आता है
पर्दा-ए-दिल से सुनाते हैं वो आवाज़ मुझे

तीलियाँ तोड़ के निकले सब असीरान-ए-क़फ़स
मगर अब तक न मिली रुख़्सत-ए-परवाज़ मुझे

पर कतर दे अरे सय्याद छुरी फेरना क्या
मार डालेगी यूँही हसरत-ए-परवाज़ मुझे

ज़ेर-ए-दीवार-ए-सनम क़ब्र में सोता हूँ फ़लक
क्यूँ न हो ताला-ए-बेदार पर अब नाज़ मुझे

बे-धड़क आए न ज़िन्दाँ में नसीम-ए-वहशत
मस्त कर देती है ज़ंजीर की आवाज़ मुझे

पर्दा-ए-हिज्र वही हस्ती-ए-मौहूम थी ‘यास’
सच है पहले नहीं मालूम था ये राज़ मुझे