भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आँगन नीपल गहागही / अंगिका लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

पति अपनी पत्नी से आग्रह करता है कि मेरी दुलारी बहन आ रही है, उससे मधुर व्यवहार करना तथा इज्जत से बैठाना। उसकी पत्नी अपनी ननद का आदर-सत्कार करती है और दो-चार गीत गाने का अनुरोध करती है। ननद अपनी भाभी से पूछती है-‘गीत गाने के लिए मुझे तुम पुरस्कार क्या दोगी?’ वह अपने पति पुत्र और स्वयं अपने लिए विभिन्न चीजों की माँग करती है। उन चीजों को देने में भाभी अपनी असमर्थता प्रकट करती है। ननद निराश होकर रोती हुई अपने घर चल पड़ती है और कहती है- ‘माँ के बिना नैहर ही नहीं।’ पति उसकी इस दशा और अपमान पर खुश है कि अच्छा हुआ कि इसके नैहर का घमंड चूर हो गया।

आँगन नीपल गहागही[1], माड़ब छाओल हे।
दुअरे सेॅ भैया उठि आयल, महल बीच ठाढ़[2] भेल हे॥1॥
मचिया बैठली तोहें रानी, कि मोरी ठकुराइनि, मोरी चधुराइनि[3] हे।
आबै[4] बाबा के दुलारी, गरब[5] जनु बोलब हे।
आबै भैया के दुलारी, कि मन सेॅ बैठायब हे॥2॥
आबहो हे ननदो आबहो, बैठहो पलँग चढ़ि हे।
गाबहो[6] दुइ चारि गीत, कि गाबि के सुनाबहो हे॥3॥
गायब हे भौजो गायब, गाबि के सुनायब हे।
हमारा के किए देब दान, हलसि घर जायब हे॥4॥
हमरा के दिहो भौजो चुनरि,बालक गले हाँसुलि हे।
परभुजी के चढ़ने के घोड़बा, हलसि घर जायब हे॥5॥
कहाँ हमें पैबै[7] ननदो चुनरि, बालक गले हाँसुलि हे।
कहाँ पैबै चढ़ने के घोड़बा, कि तोर मान राखब हे॥6॥
एतना बचन जब सुनलन, कि सुनहू न पाबोल हे।
पलँग सेॅ भैं[8] गेल ठाढ़, नैहर नै अम्माँ बिनु हे॥7॥
कानैते[9] जाय ननदिया, ठुनुकैते[10] भगिनमा जाय हे।
बिहुँसैते जाय ननदोसिया, भले रे मग[11] तोड़ल हे॥8॥

शब्दार्थ
  1. गहगह; चकाबक
  2. खड़ा
  3. चैधराइन
  4. आ रही है
  5. गर्व से
  6. आओ
  7. पाऊँगा
  8. हो गया
  9. रोते हुए
  10. बनावटी तौर से रोना
  11. गर्वद्व घमंड