भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आओ! / विजय राठौर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आओ!
लेकिन न आना
जाने की दुराशा के साथ

आओ!
सम्वाद के लिए
सार्थक भाषा के साथ

आओ!
नए उत्पाद की जीवन्त
अभिलाषा के साथ

आओ!
आ-आकर
मिलने की प्रत्याशा के साथ
तुम आओ!