भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आकाशगंगा / बालस्वरूप राही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गंगा एक यहाँ बहती है, एक वहाँ आकाश में।

धरती की गंगा है निर्मल,
शर्बत से मीठा इसका जल,
हर प्यासे की प्यास बुझाती,
भारत का इतिहास सुनाती,

इसकी अच्छाई आई थी गांधी और सुभाष में।

नभ की गंगा तारों वाली,
चाँदी रचे किनारों वाली,
रंगों भरी फुहारो वाली,
चमकीली मँझधारों वाली,

हमें रात भर नहलाती है ठंडक भरे प्रकाश में।
गंगा एक यहाँ बहती है एक वहाँ आकाश में।