भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आखिर क्यों? / असंगघोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक दिया
मिट्टी का
जलता था कभी-कभी
भगवान के आगे
उजियारा बिखेरता

चमकते थे
अपनी रहस्यमयी मुस्कान के साथ
हाथांे में नाना प्रकार के शस्त्रधरित भगवान
मनुवाद को स्थापित करने
युद्ध के लिए सदा तैयार दिखते, पर
किसी भी रोशनी में
कभी भी दिखाई नहीं दिए
शिखाधारियों के
षड्यंत्रों को रोकते
दलितों पर होते दमन को थामते
शस्त्रधारी पत्थरदिल भगवान।