भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आगन्तुक / आन्ना अख़्मातवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बीमार
तीन माह
पड़ी रही मैं बिस्तर में

अब
भय नहीं रहा
मुझे मौत का

बहुधा मुझे लगता है
सपनों में
गो मैं हूँ अतिथि
अपनी ही देह के चौखटे में

(1959)

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : सुधीर सक्सेना