भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आगाही / हरिवंशराय बच्चन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

साँवर का गीत

पच्छिम ताल पर न जाना, न नहाना, लछिमा!

मत जाना, लछिमा; मत नहाना, लछिमा!

पच्छिम ताल पर न जाना, न नहाना, लछिमा!


छितवन के तरुवर बहुतेरे

उसको चार तरु से घेरे,

उनकी डालों के भुलावे में मत आना लछिमा!

उनके पातों की पुकारों, उनकी फुनगी की इशारों,

उनकी डालों की बुलावे पर न जाना, लछिमा!

पच्छिम ताल पर न जाना, न नहाना, लछिमा!

उनके बीच गई सुकुमारी,

अपनी सारी सुध-बुध हारी;

उनकी छाया-छलना से न छलाना, लछिमा!

न छलाना, लछिमा; न भरमाना, लछिमा!

न छलाना, लछिमा; न भरमाना, लछिमा!

उनकी छाया-छलना से न छलाना, लछिमा!

पच्छिम ताल पर न जाना, न नहाना, लछिमा!


जो सुकुमारी ताल नहाती,

वह फिर लौट नहीं घर आती,

हिम-सी गलती; यह जोखिम न उठाना, लछिमा!

न उठाना, लछिमा; न उठाना लछिमा!

जल में गलने का जोखिम न उठाना, लछिमा!

पच्छिम ताल पर न जाना, न नहाना, लछिमा!


गारे गंधर्वों का मेला!

जल में करता है जल-खेला,

उनके फेरे, उनके घेरे में न जाना, लछिमा!

उनके घेरे में न जाना, उनके फेड़े में न पड़ना!

उनके फेरे, उनके घेरे में न जाना, लछिमा!

पच्छिम ताल पर न जाना, न नहाना, लछिमा!


उनके घेरे में जो आता,

वह बस उसका ही हो जाता,

जाता उनको ही पिछुआता हो दिवाता, लछिमा!

हो दिवाना, लछिमा, हो दिवाना, लछिमा!

जाता उनको ही पिछुआता हो दिवाना लछिमा!

पच्छिम ताल पर न जाना, न नहाना, लछिमा!


जिसके मुख से 'कृष्‍ण' निकलता,

उसपर ज़ोर न उनका चलता,

उनके बीच अगर पड़ जाना,

अपने साँवर बावरे को न भुलाना, लछिमा!

न भुलाना, लछिमा; न बिसराना, लछिमा!

अपने साँवर बापरे को न भुलाना लछिमा!

पच्छिम ताल पर न जाना, न नहाना, लछिमा!


मत जाना, लछिमा; मत नहाना, लछिमा!

पच्छिम ताल पर न जाना, न नहाना, लछिमा!