भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आग से आग लगा कर वो उजाले में रहे / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आग से आग लगा कर वो उजाले में रहे ।
दीप से दीप जला कर हम अन्धेरे में रहे ।

धूप बेहतर थी ये एहसास हुआ तब हमको,
चन्द पल जब किसी एहसान के साए में रहे ।

आपको हमने, हमें आप ने समझा दुश्मन,
हम भी धोके में रहे आप भी धोके में रहे ।

ये ख़रीदार की क़िस्मत नहीं चालाकी है,
ये जो ईमान भी तुम बेच के घाटे में रहे ।

कोई किरदार भी अंजाम को पहुँचा है तेरा ?
कोई कब तक तेरे बेसूद फ़साने में रहे ।

हम तो शतरंज के मोहरे थे हमारा क्या था,
हम कभी अपने कभी ग़ैर के ख़ाने में रहे ।