भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

आजकल का वसन्त / राजकुमार कुंभज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जीवन से गायब
मगर अख़बारों में छप जाता है
छा जाता है खेतों में
आजकल का वसन्त

कुछ इसी तरह आता है

फ़ोन पर बात करता हुआ
एक आदमी
किसी एक गर्म आलिंगन के लिए तरसता है
और तरसते-तरसते ही मर जाता है

कुछ इसी तरह आता है
आजकल का वसन्त!