भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आजभोलि मन मेरो / रवि प्राञ्जल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आजभोलि मन मेरो त्यसै-त्यसै दुख्छ
रोऊँ भने आँसु मेरो गह भित्रै सुक्छ

वसन्तमा मधुमास छैन आज भोलि
न्याउली रुन्छे बिरहमा मुटु मेरो पोली
ब्यथाहरू बल्झिएर खुशी पर लुक्छ
रोऊँ भने आँसु मेरो गह भित्रै सुक्छ

बगर भो छाती मेरो आँखा भो किनारा
कहाँ पोखूँ बह मनको भेटिन सहारा
भावनाको सागरमा मन मेरो डुब्छ
रोऊँ भने आँसु मेरो गहभित्रै सुक्छ