भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आजु दिगम्बर के संग गौरि / कमलानंद सिंह 'साहित्य सरोज'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आजु दिगम्बर के संग गौरि सुअवसर पेन्हि मचावती घूमे ।
गावति हे फगुआ अरुनारे, ‘सरोज’ से नैन भरे मतवारे ॥
त्यों करतार बजाय के नाचत, शंकर मौज में मस्त ह्वै झूमे ।
दोऊ दुहून पें डारत रंग उमंग सों दोऊ दुहू मुख चूमे ॥