भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज्ञा लहि घनश्याम का चली सखा वहि कुंज / सुन्दरकुवँरि बाई

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज्ञा लहि घनश्याम का चली सखा वहि कुंज।
जहाँ विराज मानिना श्री राधा-मुख पुंज॥
श्री राधा मुख-पुंज कुंज तिहि आई सहचरि।
वह कन्या को संग लिये प्रेमातुर मद भरि॥
कहत भई कर जोर निहोरन बात सयानिनि।
तजहु मान अब मान मो राखहु मानिनि॥