भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

आज अनंद भलइ हमर नगरी / मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

बधैया

आज अनंद भलइ[1] हमर नगरी।
मोर दादा लुटावे अनधन सोना, मोर दादी लुटावे मोती के लरी[2]॥1॥
बाबूजी लुटावथ[3] कोठी-अटारी, मइया लुटाबे फूल के झरी।
मोबारख[4] होय होरिला तोहरो गली॥2॥

शब्दार्थ
  1. हुआ
  2. लड़ी
  3. लुटाते हैं
  4. मुबारक। बधाई के अर्थ में प्रयुक्त बरकत का हेतु, सौभाग्यशाली