भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

आज का इन्सान / ईहातीत क्षण / मृदुल कीर्ति

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कर्तव्य, नेह, निष्ठा , बलिदान,
और विश्वास से विश्वास
उठ गया है.
अरे ! मनु की संतान
ये तुझे क्या हो गया है?
आज तुझे नीम भी मीठी लगती है.
लगता है,
आधुनिक परिवेश का
कोई सौंप डस गया है.