भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज वृन्दावन रहस रच्यो है / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

आज वृन्दावन रहस रच्यो है,
मैं भी देखन जाऊँगी।
सोलह शृंगार करूँ मोरी सजनी
मुतियन माँग भराऊँगी। आज वृन्दावन...।
ओढ़के मैं तो पचरंग चूनर
श्याम को खूब रिझाऊँगी। आज वृन्दावन...।
मोहन दान दही मांगे
कंस को जोर दिखाऊँगी। आज वृन्दावन...।
ऐसो रहस देख मेरी सजनी
प्रेम मगन हो जाऊँगी। आज वृन्दावन...।