भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

आज वृन्दावन रहस रच्यो है / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

आज वृन्दावन रहस रच्यो है,
मैं भी देखन जाऊँगी।
सोलह शृंगार करूँ मोरी सजनी
मुतियन माँग भराऊँगी। आज वृन्दावन...।
ओढ़के मैं तो पचरंग चूनर
श्याम को खूब रिझाऊँगी। आज वृन्दावन...।
मोहन दान दही मांगे
कंस को जोर दिखाऊँगी। आज वृन्दावन...।
ऐसो रहस देख मेरी सजनी
प्रेम मगन हो जाऊँगी। आज वृन्दावन...।