भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज सवेरे फिर से हमने उठते ही अख़बार पढ़ा / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज सवेरे फिर से हमने उठते ही अख़बार पढ़ा ।
पढ़ कर फिर मायूस हुए फिर पछताए बेकार पढ़ा ।

उसको तो प्रवचन करना था उसने गीता रट डाली,
हमको मर्म समझना था सो हमने केवल सार पढ़ा ।

हमको दरबारी ओहदे से ख़ारिज तो होना ही था,
हमने गीत लिखा जम्हूरी और सर-ए-दरबार पढ़ा ।

उसके बर्तावों ने मेरे ज़ह्न में जाने क्या बोया,
उतने ही मतलब उग आए उसको जितनी बार पढ़ा ।

शायद उसने कुछ पोशीदा लफ़्ज़ों में भी लिक्खा हो,
इस उम्मीद में उसके ख़त को जाने कितनी बार पढ़ा ।