भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आणो आयो रे पारीब्रम्ह को / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

    आणो आयो रे पारीब्रम्ह को,
    आरे सासरिया को जाणो

(१) चलो म्हारा संग की हो सहेलीया,
    आपुण पाणी क चाला
    उंडो कुवो न मुख साकड़ो
    आन रेशम डोर लगावा...
    आणो आयो रे...

(२) चलो म्हारा संग की हो सहेलीया,
    आपुण बाग म चाला
    चंपा चमेली दवणो मोगरो
    फूल गजरा गुथावा...
    आणो आयो रे...

(३) चलो म्हारा संग की हो सहेलीया,
    आपुण शीश गुथावा
    कछु गुथा न कछु गुथणा
    मोतीयाँ भांग सवारा...
    आणो आयो रे...

(४) चलो म्हारा संग की हो सहेलीया,
    आपुण चोली सीलावा
    कछु सीवी न कछु सीवणा
    चोली अंग लगावा...
    आणो आयो रे...

(५) कहत कबीर धर्मराज से,
    साहेब सुण लेणा
    सेन भगत जा की बिनती
    राखो चरण आधार....
    आणो आयो रे...