भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आतुर आकाश / महेश चंद्र द्विवेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्षितिज मे आतुर आकाश को धरा से है मिलते देखा,
बाँहों मे भरने के प्रयास पर जो बन जाता है मरीचिका;
आकाश विशाल है, उसका अनुभव और विस्तार है महान,
क्षितिज है मृगतृष्णा, फिर भी वह इस सत्य से अनजान ।