भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

आदत बुरी / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर वक़्त चिढ़ना,
चिढ़कर झगड़ना—
आदत बुरी है, ये आदत बुरी।

ख़ुश रहने का है
बस एक जादू,
ग़ुस्से पर अपने
रखना जी क़ाबू,
पल-पल उबलना
धम्म-धमक चलना—
आदत बुरी है, ये आदत बुरी।

धीरज नहीं हो तो
हो जाती गड़बड़,
जीवन की गाड़ी
करती है खड़-खड़ ,
औरों की सुनना न,
अपनी ही कहना—
आदत बुरी है, ये आदत बुरी।