भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आदमी है उठ ज़रा ईमान की बातें उठा / प्रमोद रामावत ’प्रमोद’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आदमी है उठ ज़रा ईमान की बातें उठा ।
अब ज़रूरत है कि हिन्दुस्तान की बातें उठा ।
 
प्यार, रिश्ते, दीनो-ईमाँ, हक़, शराफ़त सब गए,
चल सियासत में लुटे, सामान की बातें उठा ।
 
फ़र्ज से अव्वल, कोई ज़ज्बा नहीं होता, वजीर
ज़िद रियाया की है, अब सुलतान की बातें उठा ।
 
आदमी कमतर नहीं होता, ज़ुबाँ से, रंग से
हक़ की ख़ातिर लड़, उठा सम्मान की बातें उठा ।
 
सर्दियों में अल-सुबह, अख़बार का बण्डल लिए
काँपते मासूम से, वरदान की बातें उठा ।
 
रोटियों का मोल करता है वो अक्सर जिस्म से
क्रूर सौदेबाज के अहसान की बातें उठा ।
 
ख़ुद ठगा जाता है अक्सर, पर कभी ठगता नहीं
जिक्रे इन्साँ पर उसी, इंसान की बातें उठा ।