भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आदमी : छापो / रामेश्वर दयाल श्रीमाली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज रो आदमी
भारी भरकम
रफ-प्रिंट पर छप्यो
ताजो छापो है

वो सैं क्यूं बतावै
सगळी दुनिया री खबरा
ब्योरैसर
साफ-साफ
बड़ै चितरामां समेत
कीं साच
     अर घणी अतकळां

पण खुद रै बारै में
कीं कोनी कैवै
कदे ई नीं कैवै !