भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आदर्श-प्रेम / जगन्नाथप्रसाद 'मिलिंद'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कैसे कोमल कुसुम प्रेम का
रहे स्वर्ण की झोली में?
कैसे सहूँ भार वैभव का
प्रियतम की मृदु बोली में?
कैसे आज भिखारिन ‘राधा’
महलों का देखे सपना
सोते हो सुवर्ण-शय्या पर;
कैसे तुम्हें कहूँ ‘अपना’?
वेश बना धनहीन कृषक का,
सरल श्रमिक-से प्रेमी बन,
महलों का वैभव ठुकराकर
नंगें पाँवों, जीवनधन,
मेरी जीर्ण कुटी तक आओ
अधरों पर मुरली साधे;
मैं कह दूँ “मेरे मनमोहन!”
तुम कह दो “मेरी राधे!”