भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आदिवासी / कुमार अंबुज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यदि मैं पत्थर हूँ तो अपने आप में एक शिल्प भी हूँ

जैसा मैं हूँ वैसा बनने में मुझे युग लगे हैं
हटाओ, अपनी सभ्यता की छैनी
हटाओ ये विकास के हथौड़े

मैं पत्थर हूँ, पत्थर की तरह मेरी कद्र करो

ठोकर जरा सँभलकर मारना
पत्थर हूँ ।