भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आपने ज़िन्दगी न दी होती / गुलाब खंडेलवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


आपने ज़िन्दगी न दी होती
क्यों ये मरने की बेकली होती!

कोई दिल के क़रीब आता क्यों
दोस्ती दोस्ती रही होती!

हम भी आँखें बिछाए बैठे थे
एक नज़र इस तरफ भी की होती!

आप अपना जवाब थे ख़ुद ही
हम न होते तो क्या कमी होती!

याद करते गुलाब को जो आप
झुकके काँटों ने राह दी होती