भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आप दरियाव पास नदियों के जाना नहीं / रघुनाथ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आप दरियाव, पास नदियों के जाना नहीं,
         दरियाव, पास नदी होएगी सो धावैगी.
दरखत बेलि आसरे को कभी राखता न,
         दरखत ही के आसरे को बेलि पावैगी.
मेरे तो लायक जो था कहना सो कहा मैंने,
         रघुनाथ मेरी मति न्याव ही की गावैगी.
वह मुहताज आपकी है, आप उसके न,
         आप क्यों चलोगे? वह आप पास आवेगी.