भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

आबो तनी गौर करो, देश के दशा के देखो / विजेता मुद्‍गलपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आबो तनी गौर करो, देश के दशा के देखो
देश-कोष नेता के निवाला में चलल गेलै
ऐस-मोज, राग-रंग, सुख-भोग खूब भेलै
जनता के हक मधुशाला में चलल गेलै
जन-प्रतिनिधि जे कि अप्पन इमान बेची
भागी-भागी-भागी के हवाला में चलल गेलै
कुछ गेलै यूरिया में, कुछ अलकतरा में
कुछ पशुपालन घोटाला में चलल गेलै