भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आब-ए-हयात जा के किसू ने पिसू ने पिया तो क्या / हातिम शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आब-ए-हयात जा के किसू ने पिसू ने पिया तो क्या
मानिंद-ए-ख़िज्र जग में अकेला जिया तो क्या

शीरीं-लबाँ सीं संग-दिलों को असर नहीं
फ़रहाद काम कोह-कनी का किया तो क्या

जलना लगन में शम्अ-सिफ़त सख़्त काम है
परवाना जूँ शिताब अबस जी दिया तो क्या

नासूर की सिफ़त है न होगा कभू वो बंद
जर्राह ज़ख़्म-ए-इश्क़ कूँ आ कर सिया तो क्या

मोहताजगी सूँ मुझ कूँ नहीं एक दम फ़राग़
हक़ ने जहाँ में नाम कूँ ‘हातिम’ किया तो क्या