भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आब ओ गिल / शाज़ तमकनत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझे याद पड़ता है इक उम्र गुज़री
लगावट की शबनम में लहजा डुबो कर
कोई मुझ को आवाज़ देता था अक्सर
बुलावे की मासूमियत के सहारे
मैं आहिस्ता आहिस्ता पहुँचा यहाँ तक
ब-हर सम्त अम्बोह-ए-आवार-गाँ था
बड़े चाव से मैंने इक इक से पूछा
‘‘कहो क्या तुम ही ने पुकारा था मुझ को
कहो क्या तुम ही ने पुकारा था मुझ को’’
मगर मुझ से अम्बोह-ए-आवार-गाँ ने
हिरासाँ हिरासाँ परेशाँ परेशाँ
कहा सिर्फ़ इतना नहीं वो नहीं हम
हमें भी बुला कर कोई छुप गया है