भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आमद / रियाज़ लतीफ़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हमारी साँसों की जल्वा-गह में
वो सारे चेहरे
युगों के पहरे
जो सात पानी के पार जा कर
बसे हुए हैं
फिर आज सय्याल सतह पर
झिलमिला रहे हैं
सराब के आईनों में
होना न होना अपना दिखा रहे हैं
क़रीब आ कर हमें बहुत दूर
ख़ुद से बाहर बुला रहे हैं
और हम ये चेहरे
रगों के साहिल पे नक़्श जैसे सजा चुके हैं
जहाँ हमारा कोई नहीं है
वहीं पे पहले से आ चुके हैं