भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

आम आदमी / प्रभाकर गजभिये

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब उधर नज़र पड़ी
तो हाथों में दिखी
मज़बूत हथकड़ी
चोर को ले
पुलिस थी खड़ी
यह बन गया बड़ा यक्ष प्रश्न
गाँधी के इस देश में
फटे-पुराने वेश में
क्यों ग़रीब ही मरता है
पुलिस लॉक-अप में

लगता है बस अमीर ही
यहाँ ईमानदारी से
जीवन-यापन कर सकता है!