भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आम की टहनी / कैलाश गौतम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देख करके बौर वाली
आम की टहनी
तन गये घुटने कि जैसे
खुल गई कुहनी ।

धूप बतियाती हवा से
रंग बतियाते
फूल-पत्तों के ठहाके
दूर तक जाते
      छू गई चुटकी
      हँसी की हो गई बोहनी ।

पीठ पर बस्ता लिए
विद्या कसम खाते
जा रहे स्कूल बच्चे
शब्द खनकाते
      इस तरह
      सब रम गए हैं सुध नहीं अपनी ।

राग में डूबीं दिशाएँ
रंग में डूबीं
हाथ आई ज़िन्दगी के
संग में डूबीं
      कल
      उतरने जा रही है खेत में कटनी ।