भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आरज़ूएँ कमाल-आमादा / हनीफ़ कैफ़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आरज़ूएँ कमाल-आमादा
ज़िंदगानी ज़वाल-आमादा

ज़िंदगी तिश्ना-ए-मजाल-ए-जवाब
लम्हा लम्हा सवाल-आमादा

ज़ख़्म खा कर बिफर रही है अना
आजज़ी है जलाल-आमादा

कैसे हमवार हो निबाह की राह
दिल मुख़ालिफ़ ख़याल आमादा

फिर कोई निश्तर-आज़मा हो जाए
ज़ख़्म हैं इंदिमाल-आमादा

हर क़दम फूँक फूँक कर रखिए
रहगुज़र है जिदाल-आमादा

हर नफ़स ज़र्फ़-आज़मा ‘कैफ़ी’
हर नज़र इश्तिआल-आमादा