भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आर्तनाद / अजय कृष्ण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छातियों में धँस-धँस कर
फट रहे हैं प्रक्षेपास्त्र
माताओं के गर्भ में नित्य
बन रहे हैं सूराख़
गगनभेदी हुंकार से
भिड़ता है बार-बार
एक ही आर्तनाद
नहीं दबा पा रहा
इसे बमों का आतंक....
मिसाइलों के मलबों के नीचे
कुलबुला रहे हैं,
'अजन्में शिशु'
पनप रहे हैं
कई-कई अष्टावक्र
चाट-चाट कर बस
बारूद ।