भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आसन्न प्रसवा के लिये / उर्मिल सत्यभूषण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तिमिर को भेद कर
मुस्का रहा है एक तारा
तुम्हारी गोद में उंडेलता
आलोक-सारा
तुम्हारी देह का सौरभ
तुम्हें महका रहा है
कहीं पर खिल रहा है
प्रेम का प्रतीक प्यारा
तुम्हारी वेदना के मेघ
किरणों से सजे हैं
कि झंझा के झकोरों में
बजा है झुनझुना प्यारा
तुम्हारे द्वार पर वात्सल्य
है चुपचाप ही आया
उषा ने चूम कर मुखड़ा
रवि का थाल है वारा।