भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

आह्वान / असंगघोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मृत्यु!
तुम्हें आना है
कभी भी
अकस्मात
मुझे लीलने,
तुम आओगी तब तक
बचे क्षणों का
मैं कर लूँगा सदुपयोग
अपने संघर्ष को बढ़ाने
जीते-जी
अपने पुरखों के दलन की पीड़ा को
अभिव्यक्त कर दूँगा
मैं शूद्र रहते
नहीं मरूँगा
इसके लिए ही सही
मेरे लिए
कुछ पल पर्याप्त होंगे
भले ही मलेच्छ होना पड़े!