भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आ गई रे बरसात सुहानी / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

आ गई रे बरसात सुहानी
चारऊ ओर भई हरियाली,
धरती ने पहिरी चूनर धानी। आ गई...
झूला पड़ गओ डाली-डाली
आम पे बोले कोयल रानी। आ गई...
रिमझिम-रिमझिम मेहा बरसे,
ताल तलैयन भर गयो पानी। आ गई...
दादुर मोर पपीहा बोलो,
कैसी प्यारी ऋतु ये लुभानी। आ गई...