भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

आ जैहो बड़े भोर दही लै के (कार्तिक स्नान का गीत) / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

आ जैहो बड़े भोर दही लै के, आ जैहो बड़े भोर।।टेक।।
नें मानो कुड़री धर राखो, मुतियन लागी कोर।
नें मानो मटकी धर राखो, सबरे बिरज कौ मोल।
नें मानो चुनरी धर राखो, लिख है पपीहरा मोर।
नें मानो गहने धर राखो, बाजूबंद हमेल।
चंद्रसखी भज बालकृष्ण छब, छलिया जुगलकिशोर।