भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आ ढ़ीला हेरि करै छै मलीनियाँ / मैथिली लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैथिली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

आ ढ़ीला हेरि करै छै मलीनियाँ
बीच तऽ गाम पर
ढ़ीला हेरि करै छै मलीनियाँ
ठेंगही तऽ गाम पर ने हय।
आ ढ़ीला हेरि करै छै
सभ तऽ मलीनियाँ जखनी ठेंगही तऽ गाम पर
सभ तऽ मलीनियाँ बैठलै
ठेंगही तऽ गाम पर ने गय।।